Gram pradhan salary in up

Up  पंचायती चुनाव 2021 : बोर्ड परीक्षा से पहले बनेगी गाँव की सरकार

Gram Pradhan Salary in UP | Gram Panchayat Chunav 2021 Date: सम्भावना की जा रही है कि ग्राम प्रधान का चुनाव वोर्ड परीक्षा से पहले हो सकती है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा घोषणा की है कि ग्राम पंचायत का चुनाव मार्च माह के अन्तिम सप्ताह में होने की सम्भावना की जा रही हैं। कहा जा रहा है वोटर लिस्ट 22 जनवरी को जारी की जा सकती है। तथा भारत में जारी 1995 से आरक्षण सीट की घोषणा की गयी थी। तथा आरक्षण सीट की घोषणा 15 फरवरी तक की जा सकती है। तथा चुनाव में पारदर्शिता लाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कड़ा कदम उठाये जाने की घोषणा की गयी है।

Up की योगी सरकार ने सभी ग्रामों निस्पक्ष चुनाव कराने के लिए सभी जिला अधिकारी को अदेश जारी किया है कि सभी ग्राम में चुनाव में किसी भी प्रकार की असुबिधा न हो।

पिछले चुनाव में किसी-किसी ग्राम पंचायतो में दंगे होने की ख़बर आयी थी। जिससे योगी सरकार ने कडा संज्ञान लिया है। 

पंचायती राज व्यवस्था भारत में 1993 में 73th संविधान संशोधन द्वारा अनुसूची 9 में जोड़ गया है। पंचायती राज शुरू करने वाला पहला राज्य राजस्थान का  नागौर जिले था। भारत के सभी राज्यों मे पंचायती राज व्यवस्था लगू है।

Up सरकार के शिक्षा मंत्री श्री दिनेश जी ने घोषणा की है कि हाई स्कूल तथा इन्टरमीडिएट की परीक्षा अप्रैल तथा मई में कराने जाने की संभावना की जा रही है।

आरक्षण सीट

भारत में आरक्षण 1995 में उत्तर प्रदेश के झांसी जिले 449 ग्राम पंचायतो से शुरु हुआ। आरक्षण सीट भारत में लाने से समानता आ गयी जिससे सभी वर्ग के लोगों को चुनाव में खड़े होने की सम्भावना हो तथा एक वर्ग का सत्ता पर पकड़ न रहे । अनुच्छेद 39 (क) (4) में महिलाओ को आरक्षण की बात की गयी जिससे महिलाओ को भी समाज में उचित स्थान मिल सकें।

कार्यकाल : 25 दिसम्बर को समाप्त हो रहा है ग्राम प्रधान का कार्यकाल

ग्राम प्रधान का कार्यकाल 5 वर्षों का होता हैं। जिसके पहले चुनाव करना आवश्यक है लेकिन देश में कोरोना महामारी के चलते 4 से 6 माह के लिए हटा दिया गया था। जिसका कार्यकाल 2015 से 2020 तक था। इसी बीच पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह का बयान सामने आया है कि पंचायत चुनाव मार्च माह के अन्तिम सप्ताह में कराने जाने की सम्भावना है। 26 दिसम्बर से विकास खण्ड अधिकारी को कार्यकाल दिया गया हैं। जो चुनाव परिणाम तक सारा कार्यभार विकास सहायक अधिकारी को सौंपा गया हैं। पिछले वर्ष ग्राम प्रधान तथा ग्राम पंचायत सदस्यों का चुनाव एक साथ हुआ था। इस वर्ष भी एक साथ कराये जाने की सम्भावना की जा रही है। मतदाताओं की सुविधा के लिए ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत तथा बीडीसी-जिला पंचायत के लिए अलग-अलग पोंलिग बूथ बनाये जा रहें हैं।

Gram pradhan salary in up

Gram Pradhan Salary in UP | ग्राम प्रधान का वेतन

Gram Pradhan Salary in UP : ग्राम प्रधान का वेतन सभी राज्यों में अलग-अलग होती है। तथा भत्ता भी अलग-अलग होता हैं। बिहार तथा राजस्थान सरकार द्वारा वेतन और भत्ता अलग-अलग है।

Gram Pradhan Salary in UP

दोस्तो ग्राम प्रधान का मासिक वेतन 3500/ रूपये होता है। तथा 15000/ रूपये मासिक भत्ता भी दिया जाता है। वेतन तथा भत्ता अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होता है। तथा प्रत्येक प्रोजेक्ट पर कुछ प्रतिशत भी दिया जाता है। इस प्रकार सम्भावना की जा सकती है कि लगभग 30000/ से 35000/ हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like