Budget 2021 Expectations India in Hindi: 2017 से लगातार संघीय बजट 1फरवरी को वित्त मंत्री द्वारा प्रस्तुत किया जाता है। 1फरवरी को वित्त मंत्री-निर्मला सीतारमण द्वारा वर्ष 2021-2022 का बजट पेश करेंगीं। वर्ष 2020 का अबतक का सबसे लम्बा बजट भाषण था। वर्ष 2021-2022 का बजट का मुख्य लक्ष्य लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना, कारोबार मजूबत करना, अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जाति/जनजाति की सभी महिलाओं को मजबूत करना और उनके उद्दोग को बढ़ाना है।

Budget 2021 Expectations India in Hindi
Budget 2021 Expectations India in Hindi

प्रमुख बिंदुBudget 2021 Expectations India

व्ययः केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2021-2022 में लगभग 34.43 लाख करोड़ खर्च करने का अनुमान है, जो कि वित्त वर्ष 2020-21 के संशोधधित अनुमान से लगभग 13.2 प्रतिशत अधिक हो सकता है।

प्राप्तिः- वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिये केंद्र सरकार ने लगभग Rs.26.46 लाख करोड़ की प्राप्ति अनुमानित की है जो वित्तीय वर्ष 2020-21 से लगभग 17.8 प्रतिशत अधिक है।

2021-22 का बजट एक नज़र में (Rs. करोड़ मेंं) Expectations

वास्तविक
2019-20
बजटीय
2020-21
संशोधित
2020-21
बजटीय
2021-22
% परिवर्तन
(RE 2020-21 to
BE2021-22)

राजस्व व्यय

पूंजी व्यय

कुल व्यय
अनुमानित
23.76 लाख

407714

2784113

30,42,230

438569

3480799
अनुमानित
28.26 लाख

448907

अनुमानित
34.43 लाख
512085


12.9% अनुमानित

18.1% अनुमानित


राजस्व प्राप्ति

पूँजी प्राप्ति

ऋणों की वसूसी

अन्य प्राप्तियाँ

कुल प्राप्तियाँ
(उधार छोड़कर)
राजस्व घाटा
GDP का %

राजकोषीय घाटा
GDP का %

प्राथमिक घाटा
GDP का %
2.3


3.3



0.2
2.4


3.8



0.7
2.7


3.5



0.4
2.3


3.3



0.3
22.5.%


3.9%



-38.7%
बजट अनुमान(BE): प्रत्युक वित्तीय वर्ष की शुरुआत में घोधित बजट आवंटन।
संशोधित अनुमान (RE) – वित्तीयवर्ष की समाप्ति तक प्राप्तियों एवं व्यय की पेश की गई मात्रा का अनुमान।
स्रोतः संघीय बजट 2021-22 (वित्त मंत्रालय)
Budget 2021 Expectations India in Hindi
Budget 2021 Expectations India in Hindi

Also Read: Paise Kaise Kamaye Jaldi in Hindi। कैसे कमाएं जल्दी पैसा हिन्दी में जानें?

माना जा रहा है कि वर्ष 2020-21 लगातार कोरोना महामारी से वर्ष 2021-22 के संघीय बजट पर प्रभाव पड़ सकता है।

Budget 2021 Expectations India in Hindi: वर्ष 2021-22 में कोरोना के लिए एक अलग से बजट में प्रावधान किया गया है। जिसमें कोरोना वैक्सीन देश में फ्री लगाना का भी प्रावधान किया गया है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए 130 करोड़ लोगों पर वैक्सीन लगाने का खर्च लगभग 50,000 से 60,000 करोड़ रुपये तक आ सकता है। वित्त मंत्री को अतिरिक्त संसाधनों से यह राशि जुटाने के लिए उपाय करने होंगे। इस वित्त वर्ष के दौरान देश का राजकोषीय घाटा जीडीपी के 7 फीसदी से अधिक रहने का अनुमान है। पिछले साल के बजट में इसके 3.5 फीसदी रहने का अनुमान जताया गया था। इसलिए संभव है कि सेस के रूप में टैक्सपेयर्स को ही इसका खर्च उठाना पड़ सकता है।

कुटीर उद्दोग को भी बढावा दिये जाने की सम्भावना है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने दूरदराज क्षेत्रों में रह रहे आदिवासियों के द्वारा बनायें गये समानों को बाजार तक पहुँचाने के लिये भी कदम उठाने की बात अपने ॑ मन की बात ॑ में भी जिक्र किया है।

Income Tax Benefits | पर्सनल टैक्स

Budget 2021 Expectations India in Hindi: कोरोना महामारी को देखते हुए आम आदमी के हाथ में Income Tax Benefits बढ़ाने के लिए टैक्स एक्सपर्ट्स ने टैक्स छूट की सीमा बढ़ाने का सुझाव दिया है। उनका कहना है कि इसे 2.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 3.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये के बीच किया जाना चाहिए। होस्टबुक्स लिमिटेड के फाउंडर एवं चेयरमैन कपिल राणा ने कहा कि इस सीमा को 2.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये किया जाना चाहिए। साथ ही मौजूदा टैक्स स्लैब्स में भी बदलाव किया जाना चाहिए। 10 लाख रुपये तक की आय पर टैक्स 10 फीसदी होना चाहिए। 20 लाख रुपये तक इसे 20 फीसदी और उससे ऊपर की आय पर 30 फीसदी होना चाहिए।

केंद्रीय बजट 2021-2022 के लिए बजट बनाने की प्रकिया के अंतिम चरन दिया।

केंद्रीय बजट 1 फरवरी को संसद में पेश किया जाएगा। बजट तैयार करने की प्रक्रिया शुरू होने से पहले हर साल एक प्रथागत हलवा समारोह किया जाता है।

halwa-ceremoney-2021-2022

एक अभूतपूर्व पहल में, केंद्रीय बजट 2021-2022 को पहली बार पेपरलेस रूप में वितरित किया जाएगा।

विक्क मंत्री निप्मवा सीतारमण ने संसद सदस्यों और आम जनता द्वारा डिजिटल सुविधा के सरलतम रूप में उपयोग करते हुए बजट दस्तावेजों की परेशानी मुक्त पहुंच के लिए-केंद्रीय बजट मोबाइल ऐप लॉन्च किया। मोबाइल ऐप मं 14 केंद्रीय बजट दस्तावेजों की पूरण पहुंच की सुविधा है, जिसमें वार्षिक विवरण, अनुदान की मांग और सविधान द्वारा निर्धारित वित्त विधेयक शामिल है। ऐप में डाउनलोडिग, प्रिटिंग और सर्च की एम्बेडेड विशेषताओ के साथ एक उपयोगकर्ता के अनुकूल इटरफेस है।

भारत के संघीय बजट के प्रमुख फैक्टस् । Interesting facts about Indin’s Union Budget.

अब तक मोरारजी देसाई ने संसद में 10 केंद्रीय बजट पेुश किए हैं, जो एक एकल वित्त मंत्री के बाद सबसे अधिक पी चिदंबरम के साथ नौ बजट हैं।

बजट शब्द “बॉजेट” से लिया गया है जिसका मतलब है कि फ्रेंच में छोटा बैग।

1955 तक, केंद्रीय बजट अंग्रजी में प्रस्तुत किया जाता था। उस वर्ष के बाद, कांग्रेस के नेतृत्व वारी सरकार ने हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में बजट पत्र छापने का फैसला किया गया।

भारत का पहला स्वतंत्र बजट 26 नवंबर, 1947 को RK Shanmukhan Chetty द्वारा प्रस्तुत किया गया था।

2017 तक रेलवे और यूनियन का बजट अलग-अलग प्रस्तुत किया गया जाता था, 2017 से एक साथ प्रस्तुत किया जाने लगा। इंदिरा गांधी 1970 में बजट पेश करने वाली पहली महिला वित्त मंत्री तीं, इसके बाद 2019 में निर्मला सीतारमण दूसरी महिला बनी।

पहले भारतीय बजट में जेम्स विल्सन, स्कॉटिश अर्थशास्त्री और राजनीतिज्ञ प्रस्तुत किये गए। उन्होंने साप्ताहिक पत्रिका ” The Economist” की स्थापना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like